चारा घोटाला: लालू यादव की किस्मत का फैसला करेगा सुप्रीम कोर्ट

खबरे राजनीति राष्ट्रीय

बहुचर्चित चारा घोटाला मामले में आरोपी बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सोमवार को अपना फैसला देगा।

सीबीआई ने झारखंड हाई कोर्ट द्वारा लालू प्रसाद के खिलाफ षडयंत्र का चार्ज हटाने जाने के खिलाफ याचिका दायर की थी। सुप्रीम कोर्ट ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की वो दलील भी सुनी जिसमे उन्होंने 1990 के दशक में बिहार के पशुपालन विभाग में हुए चारा घोटाले में मिली अपनी जेल की सजा को चुनौती दी थी। 20 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई की याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रख दिया था और सभी सम्बंधित पक्षों को अपनी दलील रखने का आदेश दिया था।

झारखंड हाई कोर्ट ने आदेश दिया था कि आईपीसी की धारा-201 (अपराध के साक्ष्य मिटाना और गलत सूचना देना) और धारा-511 (ऐसा अपराध करने की कोशिश करना, जिसमें आजीवन कारावास या कारावास की सजा सकती है ) के तहत लालू प्रसाद यादव के खिलाफ मामले की सुनवाई चलती रहेगी। जबकि अन्य आरोपों को यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि एक अपराध के लिए किसी व्यक्ति का दो बार ट्रायल नहीं हो सकता।

चारा घोटाला लालू प्रसाद यादव के मुख्यमंत्री कार्यकाल के दौरान 1990 से 1997 तक फर्जी तरीके से बिहार के अलग अलग जिलों के पशु पालन विभाग से लगभग 1000 करोड़ रुपये निकालने से जुड़ा है। चारा घोटाला में लालू यादव पर 6 अलग-अलग मामले लंबित हैं और इनमें से एक में उन्हें 5 साल की सजा हो चुकी है। इसलिए अभी लालू यादव चुनाव लड़ने के लिए योग्य नहीं है।

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *