मयंक गाँधी का खुला पत्र अरविन्द केजरीवाल के नाम

खबरे राजनीति

दिल्ली नगर निगम चुनाव में आम आदमी पार्टी की हार के बाद सीएम अरविन्द केजरीवाल को कई सलाह मिले हैं। कुछ लोगों ने उन्हें आत्ममंथन की सलाह दी है तो कुछ लोगों ने उन्हें पार्टी के पुराने एजेंडे पर लौटने की सलाह दी है। केजरीवाल के पुराने सहयोगी मयंक गांधी ने केजरीवाल की हार पर एक चिट्ठी लिखा है और उनकी नीतियों, आदर्श पर सवाल उठाये हैं।

मयंक गाधीं ने अपने ब्लॉग और ट्विटर पर अरविन्द केजरीवाल को एक खत लिखा है, और कहा ‘कभी आप मेरे आदर्श हुआ करते थे, आपके कहने पर मैने नौकरी छोड़ दी, क्योंकि आपके बातों से लगता था कि आप समाज को बदलना चाहते हैं, मैं ही मेरी बेटी भी आपके जैसा अधिकारी बनना चाहती थी, इसका ये मतलब था कि सिर्फ मेरे ऊपर ही नहीं मेरे पूरे परिवार के ऊपर आपका जुनून सवार था।

मयकं गांधी अपने पत्र में लिखते हैं कि जब आप बिजली के मुद्दे पर दिल्ली में आंदोलन कर रहे थे तो मैं दिल्ली आया था, आंदोलन के प्रति आपकी निष्ठा और आपके गिरते सेहत को देखकर मैं चकित हो गया था। हजारों लोग आपके साथ देश के लिए अपनी जिंदगी कुर्बान करने को तैयार थे। आप हम सबों के हीरो थे। कहां है अब वह अरविंद?

मयंक गांधी ने कहा कि 2015 के विधानसभा चुनावों के बाद केजरीवाल बदल गए हैं। इंडिया अगेंस्ट करप्शन के संस्थापक सदस्य रहे और 2003 से ही केजरावील के साथ काम करने वाले मयंक गांधी ने लिखा,”कभी समझौते न करने वाले और निस्वार्थी अरविंद केजरीवाल अब मर चुके हैं।”

मयंक गांधी ने कहा कि पुराने अरविंद केजरीवाल की जगह उस राजनीतिज्ञ ने ले ली है, जो 2019 में पीएम बनना चाहते हैं और उसके लिए कुछ भी करने को तैयार हैं। अन्ना हजारे के साथ इंडिया अगेंस्ट करप्शन मूवमेंट के दौरान मयंक गांधी ने अरविंद केजरीवाल के साथ काम किया था। गांधी ने 2015 में आप की राष्ट्रीय कार्यकारिणी से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि मयंक गांधी ने उम्मीद जताई कि आम आदमी पार्टी अब भी उबर सकती है और इस हार से उसे सीखने का मौका मिलेगा।

‘आप’ के भविष्य के लिए सलाह देते हुए मयंक गांधी ने कहा, ‘कांग्रेस और बीजेपी की तरह ही एक और पार्टी बनने के अपने अजेंडो को खत्म करिए। हमें उनसे लड़ना है, न कि उनके जैसा ही एक और दल बनना है। अपनी टीम में विश्वसनीय और मजबूत लोगों को शामिल करिए। फिलहाल अपनी राष्ट्रीय महत्वाकांक्षाओं को भूल जाइए और दिल्ली में अच्छे से काम करने पर फोकस करिए।’

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *