ब्राह्मणवाद और सामन्तवाद खिलाफ बंगाल का कैवर्त विद्रोह

खबरे गरीबी जातिवाद बहुजन अधिकार बहुजन आवाज

सामंतवाद के रूप में ब्राह्मण-क्षत्रिय राजनीतिक गठजोड़ का परिणाम किसानों की दुर्दशा के रूप में सामने आया । ऐसी स्थिति में उनके पास दो रास्ते बचे –

पहला , वो गांव छोड़ दें । ऐसे गांव का उल्लेख ‘ सुभाषितरत्न-कोष ‘ में मिलता है जहां लोगो ने सामंत के अत्याचारों से तंग आकर गांव छोड़ दिया था । गांव में सिर्फ गिरी ढही दीवारें ही शेष रह गयी थीं । हर्षचरित और बृहन्नारदीय पुराण में भी ऐसे गांवो का जिक्र है ।

दूसरा , वो अपने ऊपर होने वाले अत्याचारों का विरोध करने के लिए सामंतों से संघर्ष करें ।

पूर्वी बंगाल के कैवर्तों ने दूसरा रास्ता चुना जिसका जिक्र संध्याकर नंदी की रामचरित में मिलता है । इतिहासकार रामशरण शर्मा ने भारतीय सामन्तवाद नामक किताब में इसे उधृत किया है ।

कैवर्तों से खेती की जमीनें छीन ली गयी थीं । जिनके पास बची थी उन पर करों का बोझ इतना अधिक था कि वो कर चुकाने में अक्षम थे । उनसे उनका पेशा छीन गया था और वह भुखमरी की कगार पर पहुंच चुके थे । इसका परिणाम विद्रोह के रूप में सामने आया । इस विद्रोह के नेता थे भीम और जिनके खिलाफ विद्रोह हुआ वो राजा थे रामपाल। कैवर्तों ने युद्ध के लिए तीर धनुष बनाये । वाहन के रूप में भैंसों का प्रयोग किया।

इस विद्रोह के वर्णन में बताया गया है कि कैवर्तों ने भैंसों पर चढ़कर तीर धनुष से युद्ध लड़ा । उनके तन पर कपड़े नहीं थे । वो नग्न होकर युद्ध लड़े । इसका कारण संभवतः उनकी निर्धनता थी कि उनके पास तन ढकने के लिए कपड़े नहीं थे । किंतु उनका आत्मसम्मान तन पर कपड़ो से अधिक अपनी ज़मीन और रोटी से जुड़ा था । उन्होंने नग्न रहकर ही लड़ाई लड़ी ।

जो पशु उनकी खेती में काम आते थे , जिनसे उनको दूध – दही आदि मिलता था वही उनके युद्ध में भी काम आए । वह पशु उनकी पूंजी और पारिवारिक सदस्य दोनों ही थे । यह शोषण की इंतहा ही रही होगी कि कैवर्तों को उन्हें भी युद्ध में झोंकना पड़ा।

यह विद्रोह इतना जबरदस्त था और विद्रोही इतने जोशीले और जीवट थे कि इसे दबाने के लिए रामपाल की सेना विफल हो गयी । रामपाल को अपने अधीन अन्य सामंतों की मदत लेनी पड़ी । अंत में राजा और उसके सामंतों के मिलकर प्रयास करने के बाद ही विद्रोह का दमन हो सका ।

कैवर्त विद्रोह जैसी घटनाएं प्राचीन भारतीय इतिहास में बहुत कम देखने को मिलती है । संभवतः कैवर्त ऐसे पहले कृषक समूह थे जिन्होंने सामन्तवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी ।

कैवर्तों की यह लड़ाई आज भी जारी है । उनके सामने ब्राह्मणवाद और सामन्तवाद नए कलेवर में उनका दमन करने लिए खड़ा है । गोरखपुर में उनकी जीत एक आधुनिक विद्रोह था जो अभी थमा नहीं है ।

यह आगे भी जारी रहेगा ।

लेखक – प्रद्युमन यादव

 

भारतीय सामंतवाद की कहानी – ब्राह्मण और क्षत्रिय का सामाजिक – राजनीतिक गठजोड़

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *