बहुजन इतिहास में 3 जून की तारीख

खबरे बहुजन आवाज राजनीति विचार विमर्श

14 अप्रैल 1984 को बहुजन समाज पार्टी का निर्माण होने के बाद से ही बसपा को मिशन कहकर सम्बोधित किया जाता रहा हैं जिसको हर मिशनरी कार्यकर्ता ने अपने जीवन का उद्देश्य समझ कर आगे बढ़ाया। बसपा सामान्य अर्थो में राजनीतिक पार्टी कम सामाजिक परिवर्तन व् आर्थिक मुक्ति का मिशन अधिक रहा है। जो भी बसपा से जुड़ा बहुजन आंदोलन का क्रांतिकारी वाहक बनता गया।

साहस, समझ, शक्ति के अदभुत प्रतीक के रूप ने बसपा ने सदिय से दबे कुचले बहुजन समाज और खास तौर से भारत के अछूत वर्गो में जबरदस्त क्षमता व् ऊर्जा का संचार किया। उनकी सदियोँ से दबी हुई सांगठनिक और सामाजिक परिवर्तन की चेतना को यथार्थ के पंख लगा दिए। एक जबरदस्त बदलाव की आंधी चली और एक एक कर के मनुवादी संस्थाये व् उनका वर्चस्व ध्वस्त होता गया ।

बाबा साहब, जोतिबा फुले, सवित्रीमाइ फुले, साहूजी महाराज, पेरियार, नारायणा गुरु जैसे सामाजिक क्रांतिकारियो को राष्ट्रीय पहचान व् मान्यता मिली। भारत का इतिहास व् राजनीति हमेशा के लिए बदल गई । बहुजन नायक कांशीराम एक महान सामाजिक परिवर्तक व् राजनीति के बेजोड़ खिलाड़ी के रूप स्थापित में हो गये। बसपा के पहले दस साल बहुजन समाज के लिए किसी हसीन सपने से कम न थे। बसपा के साथ बाबा साहेब के संविधान पर चलते हुए भारत सफल लोकतान्त्रिक क्रांति की और मजबूती से बढ़ा, बहुजन समाज अपनी सांगठनिक क्षमता व् लोकतांत्रिक वैचारिक प्रखरता के साथ असमानता, अपमान व् अत्याचार की बुनियाद पर टिके मनुवाद का अंतिम संस्कार करने की तैयारी करने लगा

सामाजिक लोक्तन्त्र का उदय होने लगा, बहुजन समाज समय के अनुसार अपनी ऐतिहासिक भूमिका को समझ कर उसका सम्यक निर्वाह करने के लिए तैयार हो रहा था  ऊँचे महलो की चार दीवारियो मैं कैद ब्राह्मणवादी नेतृत्व की आराम परस्त राजनीति को बहुजन नायक कांशीराम ने हमेशा के लिए जमिनोंदाज कर दिया

3 जून 1995 को इन सपनों को अमली जामा पहना दिया गया और बहुजन समाज की आकांक्षाओ की प्रतीक बहन कुमारी मायावती देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की मुख्यमन्त्री बनी। यह पिछ्ले डेढ़ हजार साल की विलक्षण घटना थी जब बहुजन समाज ने राजसत्ता को पुनः अपने हाथो में लिया। पुरे देश में ख़ुशी व् उत्सव के माहौल में बहुजन समाज अब कभी न मुड़कर देखने के लिए अपनी ऐतिहासिक मंजिल की तरफ कदम बढ़ा चुका था।

बाबा साहेब ने 29 नवम्बर 1949 को नानकचन्द रत्तू से जो कहा था अब रानी के पेट से नही बल्कि बैलट बॉक्स से शासक पैदा होंगे और महलो वाले सड़को पर व् सड़को वाले महलो में नजर आयेंगे 3 जून 1995 को यह ऐतिहासिक विचार सही सिद्ध हुआ जब एक चमार महिला ( जाति व्यवस्था की दो सबसे बड़ी शिकार पहचान ) ने सभी जातिवादी मनुवादिओ के मंसूबो को कांशीराम जी के नेतृत्व में नेस्तनाबूद करते हुए पुरे बहुजन समाज को सम्मान और सत्ता के शिखर पर पहुँचा दिया।

पुरे देश में सामाजिक परिवर्तन की बयार चलने लगी। शिवाजी का तिलक अपने उलटे पॉँव की अंगुली से करने वाले सनातनी दुर्बुद्धि बहन जी के पैरो की धूल अपने माथे पर लगाकर अपने जीवन को सफल बनाने के लिए दण्डवत हुए जाते थे और मानो लोकतान्त्रिक संविधान अपना पहला सार्थक उत्सव मना रहा था। इसके बाद तीन बार और बसपा ने बहनजी के नेतृत्त्व में उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार बना कर सदियो से चले आ रहे सामाजिक गुलामी के दुष्चक्र को तोड़ दिया।

आज, जो आंदोलन बहुजन समाज को सम्मान दिलाने के लिए शुरू हुआ था केंद्र में बहनजी के नेतृत्व में सरकार बना कर उसको इसकी तार्किक मंजिल तक पहुचना चाहता हैं। जिस समाज को शिक्षा, सम्मान, संपत्ति और शस्त्रों से वंचित होकर हजारो साल तक युद्ध बंदी के रूप में तमाम यातनाये व् आमानवीय अत्याचारों को सहना पड़ा लेकिन इन सब के बावजूद उसने जातिवादी सांस्कृतिक साम्राज्यवाद के प्रदुषण की गुलामी को स्वीकार नही किया और अपनी स्वतंत्र मानवतावादी बौद्धिक पहचान को अक्षुण बनाये रखा, बहुजन समाज अपने इसी लोकतान्त्रिक नेतृत्व में भारत को प्रबुध लोकतंत्र बनाने के लिए द्रढ़ता से आगे बढ़ रहा है यही सामाजिक परिवर्तन समतामूलक समाज, लोकतान्त्रिक सरकार व् मजबूत राष्ट्र की बुनियाद को पक्का कर रहा हैं

सही मायने में 3 जून, सामाजिक परिवर्तन दिवस हैं आप सभी देशवासिओ को इस अवसर पर हार्दिक बधाई  बहन जी को बहुजन समाज को इस ऐतिहासिक गौरव व् उपलब्धि को प्राप्त करवाने के लिए बहुत बहुत साधुवाद

Credit – Prof. Raj Kumar, DU

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *