क्या नीतीश का साथ छोड़ेंगे जदयू के मुस्लिम विधायक

खबरे राजनीति

नीतीश कुमार ने महागठबंधन से नाता तोड़ भाजपा के साथ मिलकर गुरुवार (27 जुलाई ) को नई सरकार बनाने के साथ साथ छठी बार बिहार के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। उनके साथ बीजेपी के सुशील कुमार मोदी ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली। अब नीतीश कुमार को विधानसभा में अपना बहुमत साबित करना है लेकिन विधानसभा में बहुमत साबित करना नीतीश कुमार के लिए इतना आसान नहीं होगा।

नीतीश कुमार का भाजपा के साथ मिलना कई विधायकों को रास नहीं आ रहा है। नीतीश के इस फैसले से केरल इकाई के राज्यसभा सदस्य ने नीतीश कुमार से संबंध तोड़ने की बात कह रहे है तो वही दूसरी ओर पार्टी के दो बड़े नेता शरद यादव और अली अनवर नाराज हो गए हैं। पर शायद नीतीश कुमार की मुश्किलें इस भी बड़ी है।

 यह भी पढ़े   नीतीश की भगवा चाल ने किया बिहार महागठबंधन का अंत, बिहार में खिलेगा कमल

खबरों के अनुसार जदयू के 5 मुस्लिम और 11 यादव विधायक नीतीश कुमार का साथ छोड़ सकते हैं। जदयू के 71 में 18 विधायक राजद का समर्थन कर सकते हैं। इनमें से 5 विधायक मुस्लिम और 11 विधायक यादव समुदाय से हैं। दो अन्य विधायक भी राजद के संपर्क में हैं। जदयू विधायक बिजेंद्र यादव ने कहा कि बिहार की जनता ने नीतीश और लालू को एक साथ चुना था। लेकिन उन्होंने भाजपा के साथ हाथ मिलाकर सही नहीं किया।

वही दूसरी तरफ पश्चिम बंगाल में जनता दल यूनाइटेड के उपाध्यक्ष मोहम्मद राफे महमूद सिद्दीकी का कहना है कि हम इंतज़ार कर रहे हैं कि हमारी पार्टी क्या फैसला लेती है। पार्टी केवल नीतीश जी की अकेले की नहीं है। बहुत सारे सांसद और विधायक हैं। हम सब मिलकर निर्णय लेंगे। अगर पार्टी नीतीश जी और भाजपा के साथ गई तो बहुत से मुसलमान लीडर पार्टी छोड़ देंगे। राफे ने आगे कहा कि पश्चिम बंगाल इकाई इंतज़ार कर रही है हम नीतीश जी की रणनीति के साथ नहीं रहेंगे।

  यह भी पढ़े   बिहार : टुटा महागठबंधन नीतीश कुमार ने दिया इस्तीफा

आपको बता दें कि नीतीश कुमार के इस फैसले से पार्टी के वरिष्ठ नेता शरद यादव और सांसद अली अनवर भी खुश नहीं है।
शरद यादव ने मीडिया के सामने बीजेपी के साथ गठबंधन पर खुलकर नाराजगी जाहिर की है। शरद यादव ने कहा, ‘नीतीश कुमार ने सरकार बनाने का फैसला बहुत जल्दबाजी में लिया है। गठबंधन तोड़कर इतनी जल्दी बीजेपी के समर्थन से सरकार बनाने के फैसले का मैं समर्थन नहीं करता हूं।’ शरद यादव ने कहा कि इस फैसले से गलत संदेश जाएगा। अगर यह 18 विधायक नीतीश कुमार को अपना समर्थन नहीं देते है तो नीतीश कुमार के लिए विधानसभा में बहुमत साबित करना काफी मुश्किल हो जाएगा।

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *