एक दलित छात्र ने किया आईआईटी जेईई-मेन्स परीक्षा में टॉप

खबरे बहुजन अधिकार बहुजन आवाज राष्ट्रीय शिक्षा

उदयपुर, राजस्‍थान के कल्पित वीरवाल ने आईआईटी ज्‍वाइंट एंट्रेंस एग्‍जामिनेशन यानी JEE मेन में टॉप किया है। यही नहीं कल्पित ने जेईई-मेन्स परीक्षा में 360 में से 360 नंबर लाकर सबको चकित कर दिया और एक नया इतिहास रच दिया है।

जहां एक तरफ देश में दलितों और आदिवासियों को लोग घृणा की नज़र से देखते है और सोचते है की इन्हे पढ़ने का कोई हक़ नहीं है वही कल्पित वीरवाल ने आईआईटी जेईई-मेन्स परीक्षा में टॉप कर के यह साबित कर दिया हम हम दलित कुछ भी कर सकते है। जी हा कल्पित वीरवाल राजस्थान के उदयपुर के एक दलित परिवार से तालुक रखता है। इस परीक्षा में फुल मार्क्स लाकर उन्होंने न सिर्फ जेईई-मेन्स की परीक्षा में दलित वर्ग में टॉप किया है बल्कि जनरल कटेगरी में भी टॉप कर सबको पीछे छोड़ दिया।

‘हिंदुस्तान टाइम्स’ से फोन पर बातचीत करते हुए कल्पित वीरवल ने बताया कि CBSE के अध्यक्ष आर के चतुर्वेदी ने सुबह फोन करके उन्हें इसकी खबर दी थी। वीरवल ने कहा कि जेईई-मेन्स में टॉप करना मेरे लिए खुशी की बात है लेकिन मैं अभी जेईई-एडवांस की परीक्षा के लिए फोकस करना चाहता हूं जो कि अगले महीने आयोजित होगी।

आपको बता दें कि वीरवल ने इसी साल MDS पब्लिक स्कूल से 12वीं की परीक्षा दी है जिसका रिजल्ट आना अभी बाकी है। कल्पित ने बताया कि उन्होंने रेगुलर क्लास करके और कभी भी क्लास मिस नहीं करके अपने आत्मविश्वास को ऊंचा बनाए रखा। वीरवल ने बताया कि कोचिंग और स्कूल की पढाई के अलावा वे रोजाना पांच से छ: घंटे की पढ़ाई करते हैं।

कल्पित वीरवल का कहना है कि उसने कभी भी पढ़ाई को लेकर स्ट्रेस नही लिया . निरंतर पढ़ाई और मेहनत से यह मुकाम हासिल किया. कल्पि‍त ने इस उपलिब्ध का श्रेय अपने माता-पिता और शिक्षकों को दिया

12वीं विज्ञान संकाय के स्टूडेंट कल्पित ने एनटीएसई के प्रथम चरण में भी राज्य में पहला स्थान प्राप्त किया था. साथ ही वह केवीपीवाय में भी प्रथम रैंक प्राप्त हासिल कर चुके हैं. अब कल्पित के लिए एडवांस परीक्षा बड़ा लक्ष्य है, जिसके लिए वह पूरी तरह आत्मविश्वास से भरे हुए हैं.

कभी पढ़ाई को बोझ नहीं समझा

कल्पित वीरवाल कहते है की आज मुझे बहुत खुशी हो रही है. मैंने कभी सोचा नही था कि मैं 360 में 360 अंक लेकर आऊंगा. टीचर्स का बहुत साथ मिला है और मेरी वजह से पूरे परिवार में खुशी है, इसलिए मुझे गर्व महसूस हो रहा है. टीचर्स जो होमवर्क देते थे, उसे पूरा करता था और लगातार पढ़ाई करता था. पढ़ाई को कभी बोझ की तरह नही लिया और लगातार पढ़ता गया.

कल्पित को क्रिकेट और बैंडमिंटन खेलना अच्छा लगता है और उन्हें संगीत का भी शौक है। उन्होंने बताया कि अभी फिलहाल उन्होंने अपना करियर प्लान नहीं बनाया है लेकिन वह आईआईटी मुंबई में कंप्यूटर साइंस में एडमिशन लेना चाहते हैं। कल्पित ने इससे पहले इंडियन जूनियर साइंस ओलंपियाड और नेशनल टेलेंट सर्च एग्‍जामिनेशन में भी टॉप किया है।

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *