स्टाइलिश मूंछ रखने पर दलित युवक के साथ सवर्णों ने की मारपीट

खबरे जातिवाद

आज़ादी के 70 साल बाद भी हमारे देश में अभी तक दलितों उनका हक़ नहीं मिला है। कई जगह दलितों को सरकारी नल का पानी पीने से रोका जाता रहा है तो कही दलित घोड़ी पर बारात नहीं निकला सकते ऐसे ही अजीवो गरीव घटना गुजरात में गांधीनगर में देखने को मिली है। गुजरात की राजधानी गांधीनगर से महज 15 किलोमीटर की दूरी पर कुछ लोगों ने कथित रूप से एक दलित युवक के साथ सिर्फ इसलिए मारपीट की कि उसने स्टाइलिश मूंछ रखी थी।

मीडिया रेपोरेट्स के अनुसार “गांधीनगर के कालोल तालुका के लिंबोदरा गांव के रहने वाले 24 वर्षीय पीयूष परमार ने शिकायत की है कि 25 सितंबर को उसके साथ कुछ लोगों ने मूंछ को लेकर मारपीट की. पीयूष के मुताबिक, दरबार समुदाय के तीन लोगों को यह पसंद नहीं आया कि दलित समुदाय का युवक मूंछ बनवाए ”

पुलिस ने एक ही गांव के रहने वाले तीनों आरोपी मयूर सिंह वाघेला, राहुल विक्रम सिंह सेराठिया और अजित सिंह वाघेला के खिलाफ 26 सितंबर को शिकायत दर्ज की. केस की जांच डेप्युटी एसपी लेवल का एक अधिकारी कर रहा है.

एफआईआर में उल्लेख किया गया है, ‘मामले में आरोपियों ने शिकायतकर्ता को गालियां दीं, पीटा और कहा कि वह मूंछ कैसे बनवा सकता है।’
एफआईआर के मुताबिक, गांधीनगर की एक निजी कंपनी में काम करने वाला परमार अपने चचेरे भाई दिगांत महेरिया के साथ गरबा देखकर लौट रहा था। रास्ते में कुछ लोगों ने उनको जातिसूचक गालियां दीं।

पीड़ित पीयूष परमार ने टीओआई को बताया, ‘जब हम जा रहे थे तो गालियों की आवाज आई. अंधेरा होने के कारण हम उनको दूर से देख नहीं पाए थे. जब हम उस स्थान पर गए जहां से आवाज आ रही थी तो दरबार समुदाय के तीन लोग वहां थे. किसी तरह के झगड़े से बचने के लिए हमने उनको नजरअंदाज किया. जैसे ही हम घर पहुंचे, वे लोग हमारे घर पहुंच गए और फिर गालियां देने लगे. उनलोगों ने पहले मेरे चचेरे भाई दिगांत को पीटा और उसके बाद मुझे पीटने लगे. वे लोग बार-बार मुझे कह रहे थे कि निचले संप्रदाय से होने के बावजूद मैं मूंछ कैसे बनवा सकता हूं.’

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *