सांप्रदायिक ज़हर वाले सांपों’ पर जीत हासिल करने वाला शख्स ‘चतुर बनिया’ से कहीं अधिक-राजमोहन गांधी

खबरे राजनीति

भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पौत्र राजमोहन गांधी ने  कहा  ‘ब्रितानी शेरों’ और देश में ‘सांप्रदायिक ज़हर वाले सांपों’ पर जीत हासिल करने वाला शख्स ‘चतुर बनिया’ से कहीं अधिक था।

महात्मा गाँधी के पौत्र राजमोहन गांधी के यह बयान उस समय आया है जब भारतीय जनता पार्टी के अध्क्षय अमित शाह ने शुक्रवार (9 जून ) को एक विवादित बयान देते हुए कहा कि “गांधी चतुर बनिया था. गांधी को मालूम था कि कांग्रेस का आगे क्या हश्र होने वाला है, इसीलिए उन्होंने आज़ादी के बाद तुरंत कहा था कि कांग्रेस को बिखेर देना चाहिए. महात्मा गांधी ने नहीं किया, लेकिन अब कुछ लोग उसको बिखेरने का काम समाप्त कर रहे हैं. इसलिए ही कहा था महात्मा गांधी ने, क्योंकि कांग्रेस की कोई आइडियोलॉज़ी ही नहीं थी, सिद्धांतों के आधार पर बनी हुई पार्टी ही नहीं थी”

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार जीवनीकार और अमरीका की इलिनॉय यूनिवर्सिटी में रिसर्च प्रोफ़ेसर राजमोहन गांधी ने ई-मेल के ज़रिए भेजे गए जवाब में कहा, “जिस व्यक्ति ने ब्रितानी शेरों और सांप्रदायिक ज़हर वाले सांपों पर जीत हासिल की, वह चतुर बनिया से कहीं अधिक था. अमित शाह जैसे लोगों के उलट आज उनका लक्ष्य बेकसूर और कमज़ोर लोगों का शिकार कर रही शक्तियों को पराजित करना होता.”

क्या है पूरा मामला

शाह ने शुक्रवार (9 जून ) शाम को कहा था कि जब कांग्रेस की स्थापना हुई तब उसमें सभी विचारधाराओं को मानने वाले लोग थे। इसमें मौलाना साहब भी थे। मदनमोहन मालवीय भी थे, और अन्य कई लोग थे। सभी देश की आजादी के लिए साथ आए थे। कांग्रेस की स्थापना किसी विचारधारा के साथ नहीं हुई थी, बल्कि सभी देश की आजादी के लिए साथ आए थे।

शाह ने कहा कि महात्मा गांधी दूरदर्शी होने के साथ ही बहुत चतुर बनिया थे। उन्हें मालूम था कि आगे क्या होने वाला है। उन्होंने आजादी के बाद तुरंत कहा था कि कांग्रेस को भंग कर दिया जाना चाहिए। यह काम महात्मा गांधी ने नहीं किया। लेकिन अब कुछ लोग कांग्रेस को भंग का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने ऐसा इसलिए कहा था क्योंकि कांग्रेस की स्थापना विचारधारा के आधार पर नहीं हुई थी।

कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि महात्मा गांधी ने देश के लिए सर्वस्व न्यौछावर किया है। लेकिन उन्हें चतुर बनिया कहना राष्ट्रपिता का अपमान है तथा वणिक समुदाय का भी अपमान है। राष्ट्रपिता के बारे में आपत्तिजनक बात कहना राजनीति की स्थापित मयार्दाओं के खिलाफ है।

महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की आलोचना करते हुए कहा कि शाह को तत्काल देशी जनता से माफी मांगना चाहिए।

चव्हाण ने संवाददाताओं से कहा, शाह उन पाकिस्तानी नेताओं की बोली बोल रहे हैं जो लगातार महात्मा गांधी की आलोचना करते हैं। महात्मा गांधी के लिए ऐसी भाषा का उपयोग कर उन्होंने उन सभी स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान किया है जिन्होंने देश की खातिर अपना सर्वस्व बलिदान किया।

चव्हाण ने आगे कहा कि, महात्मा गांधी की जाति के बारे में बोल कर बीजेपी ने जाति आधारित राजनीति का अपना असली चेहरा उजागर कर दिया है।

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *