बहुजन इतिहास में 3 जून की तारीख

14 अप्रैल 1984 को बहुजन समाज पार्टी का निर्माण होने के बाद से ही बसपा को मिशन कहकर सम्बोधित किया जाता रहा हैं जिसको हर मिशनरी कार्यकर्ता ने अपने जीवन का उद्देश्य समझ कर आगे बढ़ाया। बसपा सामान्य अर्थो में राजनीतिक पार्टी कम सामाजिक परिवर्तन व् आर्थिक मुक्ति का मिशन अधिक रहा है। जो भी […]

Continue Reading

वंचित समाज, गरीबो और महिलाओं को उच्च शिक्षा से दूर करना सरकार की साजिश

दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षक काफी महीनो से मोदी सरकार की अलग अलग नीतियों के तहत उच्च शिक्षा में दख़लअंदाज़ी और उसके कारण पैदा होने वाले संकटो के खिलाफ आंदोलन कर रहे है उनका मानना है की मोदी सरकार कॉलिजों को स्वायत्ता प्रदान करने के नाम पर उच्च शिक्षा का बाज़ारिकरण कर रही है। ऐसा अगर […]

Continue Reading

बहुजनो को अपनी असली आज़ादी के लिए नया आंदोलन चलाना होगा

दिल्ली सरकार में सामाजिक कल्याण और अनुसूचित जाति-जनजाति कल्याण मंत्री श्री राजेंद्र पाल गौत्तम का मानना है कि आज बहुजनो को अपनी असली आज़ादी के लिए नया आंदोलन चलाना होगा क्योंकि अंग्रेजो से आज़ादी सिर्फ 10% लोगो को ही मिली थी और 90% आबादी को असली आज़ादी मनुवादियो को हराकर ही मिलेगी Delhi govt cabinet […]

Continue Reading

बहुजन भारत के निर्माण का सबसे आसान और कारगर उपाय क्या है?

क्या आपको पशु पक्षियों या पेड़ पौधों में ऐसी प्रजातियों का पता है जो अपने ही बच्चों के लिए कब्र खोदती है? या अपने ही बच्चों का खून निकालकर अपने दुश्मनों को पिलाती है? मैंने तो आजतक ऐसा कोई जानवर या पक्षी या पेड नहीं देखा जो अपने बच्चों के भविष्य को बर्बाद करने की […]

Continue Reading

बाबा साहब डॉ भीम राव अम्बेडकर का हमारी उन्नति में अतुलनीय योगदान……

बलिया जनपद अंतर्गत उभांव थाना से पूरब एक विशाल बहुजन सम्मेलन का आयोजन अम्बेडकरवादी साथियो द्वारा किया गया जिसकी मुख्य अतिथि बीएचयू की अंग्रेजी की प्रोफेसर श्रीमती इंदू चौधरी जी रहीं। उक्त कार्यक्रम में अपने विचार रखते हुए मैंने कहा कि देश के बहुजनो को हत्याओं पर आधारित त्यौहारों से विरत रहना चाहिए।हिन्दू धर्म के […]

Continue Reading

भारत की एकमात्र समस्या – भारत का अध्यात्म 

 भारत का अध्यात्म असल में एक पागलखाना है, एक ख़ास तरह का आधुनिक षड्यंत्र है जिसके सहारे पुराने शोषक धर्म और सामाजिक संरचना को नई ताकत और जिन्दगी दी जाती है कई लोगों ने भारत में सामाजिक क्रान्ति की संभावना के नष्ट होते रहने के संबंध में जो विश्लेषण दिया है वो कहता है कि […]

Continue Reading

ऐसा क्यों??- SC/ST/OBC को शादी से 3 दिन पहले पुलिस को इत्तला करने का निर्देश जिससे हिन्दुओं से उन्हें सुरक्षित रख सके प्रशासन

.गजब है भाई! ऐसा तो मुगलों या अंग्रेजो तक के शासन में नही हुवा कि किसी दलित/पिछड़ा (sc/st/obc) के घर बारात आये तो उसे सरकार को या पुलिस को बताना पड़ा हो कि मीलार्ड मेरे घर बिटिया की शादी या बेटे का तिलक है इसलिए मुझे सुरक्षा दिया जाय।हां यह हिंदुत्ववादियों या हिन्दू राजाओं या […]

Continue Reading

समाजवाद से महाराणा प्रताप जयंती का सरोकार??

महाराणा प्रताप राजपूत समाज के एक क्षत्रिय राजा थे जिन्होंने अपनी राजसत्ता के लिए मुगल शासकों से संघर्ष किया।यह महाराणा प्रताप जी का कर्तव्य था क्योंकि राज उन्हें ही भोगना था लेकिन महाराणा प्रताप जयंती और समाजवाद में क्या रिश्ता है?मुगलों और राजपूत राजाओं में वर्तमान सामाजिक/राजनैतिक परिदृश्य में कौन बहुजन समाज के लिए मुफीद […]

Continue Reading

मज़दूर दिवस और अम्बेडकर

बाबा साहेब अम्बेडकर के श्रमिक वर्ग के उत्थान से जुड़े अनेक पहलूओं को भारतीय इतिहासकारों और मजदूर वर्ग के समर्थकों ने नज़रंदाज़ किया है । जबकि अम्बेडकर के कई प्रयास मजदूर आंदोलन और श्रमिक वर्ग के उत्थान हेतु प्रेरणा एवं मिसाल हैं । आईये , आज मज़दूर दिवस के अवसर पर बाबा साहेब के ऐसे […]

Continue Reading

बुद्ध पूर्णिमा पर बुद्ध के दुश्मनों को पहचानिए

बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर बुद्ध के सबसे पुराने और सबसे शातिर दुश्मनों को आप आसानी से पहचान सकते हैं। यह दिन बहुत ख़ास है इस दिन आँखें खोलकर चारों तरफ देखिये। बुद्ध की मूल शिक्षाओं को नष्ट करके उसमे आत्मा परमात्मा और पुनर्जन्म की बकवास भरने वाले बाबाओं को आप काम करता हुआ आसानी […]

Continue Reading