मायावती का हैरतअंगेज बयान, कहा भीम आर्मी भाजपा की उपज है

खबरे बहुजन आवाज राजनीति

उत्तरप्रदेश के सहारनपुर में हुई जातीय हिंसा के बाद बीएसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए एक हैरतअंगेज बयां देते हुए कहा की भीम आर्मी पूरी तरह से भारतीय जनता पार्टी का ही प्रॉडक्ट है। परन्तु भीम आर्मी पर इस आरोप को सिद्ध करने के लिए उन्होंने कोई प्रमाण नहीं दिए।

सुश्री मायावती के अनुसार उत्तरप्रदेश में भारतीय जनता पार्टी राजनीतिक षडयंत्र के तहत भीम आर्मी को बीएसपी से जोड़कर सहारनपुर की जातिवादी घटनाओं के सम्बन्ध में अपनी विफलताओं पर पर्दा डालने का प्रयास कर रही है। साथ ही मायावती ने कहा कि बीएसपी का किसी भी रूप में भीम आर्मी नामक सगंठन से कोई सम्बन्ध नहीं है और ना ही दूर-दूर तक उससे कोई लेना-देना है।

यह भी पढ़े – चंद्रशेखर ने वीडियो में अपने ऊपर लगे आरोपो का दिया जवाब

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने एक बयान जारी कर कहा कि बीएसपी के केन्द्रीय, राज्य व जिला स्तर के भी किसी छोटे-बड़े पदाधिकारी व कार्यकर्ता का भी भीम आर्मी से कोई सम्बन्ध नहीं है। बीएसपी मूल रूप में एक राजनीतिक पार्टी है जिसमें समाज के हर धर्म, हर जाति, हर समाज व महिला, युवा आदि का प्रतिनिधित्व है तथा इसका अलग से ना तो कोई मोर्चा या अन्य संगठन है और ना ही किसी अन्य संगठनों से इसका कोई सम्बन्ध है।

यह भी पढ़े – सहारनपुर में जातीय हिंसा के बाद तनाव, नए अधिकारियों की तैनाती

मायावती ने कहा कि भीम आर्मी को बीएसपी के साथ जोड़ने की प्रदेश बीजपी सरकार की साजिश वैसी ही निन्दनीय है जैसा कि भीम आर्मी के लोग खासकर सहारनपुर में बीएसपी के साथ अपने आपको जोड़कर भोले-भाले लोगों का आर्थिक शोषण कर रहे थे। उन्होंने बताया कि उनके सहारनपुर दौरे के दौरान यह भी शिकायत मिली थी कि भीम आर्मी के लोग अपने आपको बीएसपी का शुभचिन्तक बताकर बाबासाहेब डॉ. अम्बेडकर जयंती के अवसर पर लोगों से धन वसूला करते थे।

साथ ही बीएसपी के नवनियुक्त राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आनन्द कुमार से मिलने की बात भीम आर्मी के लोग प्रचारित करते थे, जबकि इस मामले में सच्चाई यह है कि इनकी नियुक्ति के बाद अपनी-अपनी समस्याओं को लेकर देश भर के लोग आनन्द कुमार से मिलते रहते हैं परन्तु भीम आर्मी के नाम पर किसी से ना तो कोई सम्पर्क हुआ और ना ही इस जैसे अन्य किसी संगठन से बीएसपी या आनन्द कुमार का कोई सम्बन्ध है।

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *