आप में छिड़ा अंदरूणी युद्ध,अमानतुल्ला खान ने दिया पीएसी से इस्तीफा

खबरे राजनीति राष्ट्रीय

आम आदमी पार्टी में रोज नए नए सकंट पैदा हो रहे है। दिल्ली के नगर निगम चुनाव में करारी हार के बाद जहा केजरीवाल खुद को और पार्टी को संभालने की कोशिश कर रहे थे तभी ओखला से पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान ने पार्टी के सीनियर नेता कुमार विश्वास पर आरोप लगाया था कि वह पार्टी तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं।

अमानतुल्लाह खान ने पार्टी के वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास पर गंभीर आरोप लगाए थे जिसके बाद सोमवार देर रात पार्टी की पीएसी की बैठक बुलाई गई थी. पीएसी ने अमानतुल्लाह खान से आरोपों को लेकर गहरी नाराजगी जताई जिसके बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया।

पीएसी की बैठक के बाद मनीष सिसोदिया ने कहा कि अमानतुल्ला का इस्तीफा मंजूर कर लिया गया. उन्होंने यह भी बताया कि कुमार विश्वास से अरविंद केजरीवाल नाराज हैं और उनकी बयानबाजी से पार्टी का नुकसान हो रहा है। केजरीवाल ने पार्टी नेताओं को बयानबाजी से बचने को कहा है।

उधर विधायक अमानतुल्लाह खान बैठक के बाद संवाददाताओं से मिले और कहा, ‘मैंने अपनी मर्जी से पीएसी के पद से इस्तीफा दिया है. लेकिन मैं आज भी अपनी उस बात पर कायम हूं कि कुमार विश्वास आरएसएस और भारतीय जनता पार्टी के इशारे पर काम कर रहे हैं।

अमानतुल्ला ने कहा कि विश्वास आज कार्यकर्ताओं की बात कर रहे हैं, विधायकों की बात कर रहे हैं मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि जब बस्सी हमारे एक-एक विधायक को जेल भेज रहे थे, कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज करा रहे थे, तो इन्होंने बर्थडे पार्टी में बस्सी, अजित डोभाल को क्यों बुलाया और उनके बराबर में बैठकर केक क्यों खाया?

रविवार को अमानतुल्लाह खान ने पार्टी के वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए आरोप लगाया था कि वो पार्टी तोड़ना और हड़पना चाहते हैं. अमानतुल्लाह खान ने मीडिया को बयान जारी कर कहा था कि कुमार विश्वास आम आदमी पार्टी को हड़पना चाहते हैं और तोड़ना चाहते हैं ।

वो अपने घर विधायकों को बुलाकर बुलाकर ये कह रहे हैं कि मुझे पार्टी का संयोजक बनवाओ नहीं तो भाजपा में चलो, भाजपा हर एक को 30 करोड़ देने के लिए तैयार है, ऐसा ही योगेंद्र यादव चाहते थे. मुझे लगता है ये सब भाजपा के इशारे पर हो रहा है।

वही दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी के 22 विधायकों ने खान को पार्टी से बाहर निकालने की मांग की थी साथ ही एक लेटर पार्टी की सीनियर लीडरशिप को सौंपा है। इस लेटर पर दिल्ली के मंत्री कपिल मिश्रा, इमरान हुसैन और द्वारका से विधायक आदर्श शास्त्री जैसे अहम लोगों के हस्ताक्षर भी हैं।

हुसैन ने ट्वीट भी किया था की अमानतुल्ला अपना मानसिक संतुलन खो चुके हैं।
खान ने कहा कि उनके खिलाफ चलाया जा रहा अभियान स्क्रिप्टेड है। साथ ही खान ने कहा था कि बमुश्किल 4-5 विधायकों ने उनके खिलाफ चल रहे सिग्नेचर कैंपेन को समर्थन दिया है।

वही दूसरी तरफ पार्टी के एक सीनियर नेता ने कहा कि कुमार विश्वार और केजरीवाल के बीच दरार पैदा करने की कोशिश के साथ-साथ खान ने हालिया MCD चुनावों में पार्टी के हितों के खिलाफ काम किया। इन चुनावों में पार्टी को भारतीय जनता पार्टी के हाथों तगड़ी हार का सामना करना पड़ा था।

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *