ई-पोर्टल और ऑनलाइन मेडिसिन बिजनेस के विरोध में आज 9 लाख से ज्यादा दवाई की दुकाने बंद

खबरे

आज पुरे देश में ज़्यादातर दवा की दुकानें बंद हैं। दवाओं की ब्रिक्री को लेकर सख्त नियमों के खिलाफ आज पूरे देश में दवा की दुकानें बंद हैं. इस बंद में 9 लाख से ज्यादा दवा दुकानदारों के शामिल होने की बात कही जा रही है। ई-पोर्टल और ऑनलाइन मेडिसिन बिजनेस के विरोध यह सभी दवा की दुकाने बंद है।

ऑल इंडिया ऑर्गेनाइजेशन ऑफ केमिस्ट्स एंड ड्रगिस्ट्स (एआईओसीडी) के मुताबिक उन्होंने सरकार को सख्त नियम के खिलाफ प्रस्ताव भेजे थे, लेकिन इसे सुना नहीं गया. इसके बाद 30 मई 2017 को एक दिन की हड़ताल का आह्वान किया गया है. एआईओसीडी के वरिष्ठ सदस्य ने कहा, “हमें दवाओं की बिक्री से संबंधित सभी जानकारी एक पोर्टल पर डालने को कहा गया है, जो कि मौजूदा ढांचे में संभव नहीं है.”

क्या है ई-पोर्टल और ऑनलाइन मेडिसिन बिजनेस

ई-पोर्टल और ऑनलाइन मेडिसिन बिजनेस के तहत डॉक्टरों की पर्ची को स्कैन करने के बाद ही मरीजों को दवा दी जा सकेगी।

विक्रेताओं का कहना है कि बिजली नहीं होने पर स्कैनिंग नहीं होगी, कई बार लिंक फेल होने से भी दवा नहीं दी जा सकेगी. मरीजों को कई बार तुरंत दवाइयों की जरूरत होती है, लेकिन दवा न मिलने पर वे मारपीट भी कर सकते हैं।

इसके अलावा खुदरा दवा विक्रेता, केमिस्ट और ई-फार्मेसी तब तक दवा नहीं बेच सकेंगे, जब तक वे इस ई-पोर्टल पर पूरा ब्योरा दर्ज नहीं करा देते।

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *